कांग्रेस प्रवक्ता ने आतंकी अफजल को 'अफज़ल गुरु जी' कहकर पार्टी को फंसाया

कांग्रेस प्रवक्ता ने आतंकी अफजल गुरु को ‘अफज़ल गुरु जी’ कहकर पार्टी को फंसाया

नई दिल्ली। जेएनयू में देशविरोधी नारेबाजी को लेकर हो रहे सियासी घमासान में कांग्रेस ने अब एक नए विवाद को जन्म दे दिया है। आज एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने संसद हमले के दोषी अफजल गुरु का नाम लेते वक्त उसे इज्जत बख्शते हुए जी शब्द का इस्तेमाल किया।

दरअसल, सुरजेवाला बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह के ब्लॉग का जवाब दे रहे थे। सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस की सरकार ने न्याय प्रणाली के तहत ही मौलिक अधिकारों का ध्यान रखते हुए संसद हमले के दोषी अफजल गुरु को फांसी सजा दिलवाई।

इतना ही नहीं सुरजेवाला ने एक और गलती करते हुए अफजल को सुप्रीम कोर्ट का हमले का आरोपी बताया। उन्होंने कहा कि अफजल गुरु सुप्रीम कोर्ट पर हमले का दोषी था और उसे भी पूरी कानूनी लड़ाई लड़ने की छूट दी थी। पूरी प्रेस कांफ्रेंस के दौरान सुरजेवाला यही कहते रहे।

बाद में सुरजेवाला अफजल गुरु जी वाले बयान पर सफाई देते हुए कहा कि मैं जी नहीं बोलना चाहता था, लेकिन मेरे बोलने का मतलब था कि भारत में ये साहस है कि कि कसाब जैसे आतंकी को भी हमने पूरी कानूनी मदद लेने का मौका दिया।  मेरे बयान को  समग्र रूप में लेना चाहिए।

इस बयान पर बीजेपी ने कांग्रेस को निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस की मानसिकता यहां से जगजाहिर होती है। इन्हीं लोगों ने हाफिज सईद को साहब और ओसामा बिन लादेन को भी जी कहकर संबोधित किया था। जेएनयू में ‘हिंदुस्तान मुर्दाबाद’ और ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगे रहे हैं और कांग्रेस उसका समर्थन कर रही है। संबित ने पूछा, ‘ये देश जा कहां रहा है?’

बता दें कि इससे पहले भी कांग्रेस नेता इसी तरह के बयानों पर घिर चुके हैं। दिग्विजय सिंह ने एक बार ओसामा बिन लादेन जी कहा था तो वहीं पूर्व गृहमंत्री सुशील शिंदे ने हाफिज सईद को साहब कहकर विवादों को न्योता दिया था।