चोर, कमीशनखोर बैंक मैनेजरों पर मोदी का कहर, जाएंगे जेल, नौकरी जायेगी सो अलग

नई दिल्ली : पिछले कई दिनों से कई बैंक अधिकारियों के खिलाफ नए नोटों की दलाली की शिकायतें आ रही थी। अब खबर आयी है कि मोदी सरकार ने इनकी जांच शुरू कर दी है और कई बैंक अधिकारी जेल जाने वाले हैं। इनमे बड़े अधिकारियों से लेकर निचले स्तर के कर्मचारी भी सम्मिलित हैं। इन सभी पर नोटबंदी के दौरान कालाबाजारियों से कमीशन लेकर उनके कालेधन को सफ़ेद करने का आरोप है।

लगातार आ रही कई शिकायतों के कारण इनकम टैक्स विभाग अलर्ट हो गया था और ऐसे कई बैंकों के अधिकारियों और बैंककर्मियों की सभी गतिविधियों पर कड़ी नज़र रख रहा था। ज्यादातर बैंक अधिकारी तो पूरी लगन और ईमानदारी से अपना काम कर रहे हैं मगर कुछ बैंक अधिकारियों के धांधली के मामले सही पाए गए हैं। सूत्रों कि मानें तो ऐसे कई बैंक अधिकारियों को तत्काल प्रभाव से ससपेंड भी कर दिया गया है और उनके खिलाफ आगे की जांच चल रही है।

modi-us-biz-759
source: ddnews

लोग लाइनों में खड़े थे और ये कमीशन खा रहे थे

कालेधन की दलाली के इन मामलों की जांच शुरू हो चुकी है। संदिग्ध बैंक अधिकारियों की पूरी जांच की जा रही है ताकि पता चल पाए कि किसी को फायदा पहुंचाने के पीछे आखिर कारण क्या था। इनमे से अधिकतर मामले तो कमीशन खाकर कालेधन को सफेद करने के लग रहे हैं। अकेले महाराष्ट्र के पुणे आयकर हेडक्वार्टर में ऐसे दो हजार से अधिक खातों की जांच हो रही है जिनमें नोटबंदी के बाद से अबतक एक करोड़ रुपये से भी ज्यादा रुपये जमा किये गए हैं। करीब 80 खाते तो ऐसे भी हैं जिनमें और भी ज्यादा रुपया जमा किया गया है। कालेधन को सफ़ेद करने का ये गोरखधंधा करीब 20 से 30 अरब रुपये के बीच बैठता है। जाहिर सी बात है कि इतने सारे पैसे बैंक मैनेजरों या बड़े अधिकारियों की मिलीभगत के बिना खातों में जमा कराना नामुमकिन है।

दलाली की जानकारी देने के लिए टोल-फ्री नंबर जारी

आयकर विभाग ने एक टोल-फ्री नंबर भी जारी किया है, जिसके जरिये से आम लोग व् बैंककर्मी भी किसी संदिग्ध लेनदेन के बारे में जानकारी दें सकते हैं। जानकारी देने वाले लोगों की पहचान भी पूरी तरह से गुप्त रखी जाएगी। ये फैसला इसलिए लिया गया है क्योंकि कई आम लोग धांध्लेबाजों के बारे में बताने के लिए आयकर अधिकारियों से संपर्क कर रहे थे। और यदि कोई बैंक मैनेजर धांधली कर रहा है तो वहां के ईमानदार बैंककर्मी आयकर विभाग को जरूर कुछ न कुछ इनपुट्स दे सकते हैं।

आम लोगों ने भी दर्ज कराईं शिकायतें

नोटबंदी के बाद देश की कई जगहों से आम लोगों ने भी कई बैंक मैनेजरों और बैंककर्मियों के खिलाफ शिकायतें दर्ज कराई हैं। कई मीडिया चैनलों ने दलाली में शामिल ऐसे बैंक मैनेजरों के स्टिंग ऑपरेशन भी किए हैं। ऐसे सभी मामलों की पड़ताल शुरू हो चुकी है, और दोषी पाए गए बैंक मैनेजरों के खिलाफ कार्रवाई भी की जायेगी।

हाल ही में 3.5 करोड़ के नए नोटों के बरामद होने के मामले में एक्सिस बैंक की दिल्ली की कश्मीरी गेट ब्रांच के दो मैनेजरों का हाथ होने की बात सामने आयी थी। खबरों के मुताबिक़ इन दोनों मैनेजरों ने पुराने नोटों को बदलकर नए नोटों की गड्डियां देने के बदले में कालाबाजारियों से कमीशन के तौर पर सोना लिया था। ऐसे कई मामलों की जांच शुरू हो चुकी है और जल्द ही ऐसे अधिकारियों के खिलाफ एक्शन लिए जाएंगे।

अब आपकी बारी

क्या आप ऐसे चोर बैंक मैनेजरों के खिलाफ की जा रही कड़ी कार्यवाही के लिए मोदी सरकार से सहमत हैं? अगर आपका जवाब हाँ है तो इस पोस्ट को जरूर शेयर करें।

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

Loading...
loading...
शेयर करें