माता अमृतानंदमयी देवी ने 'नमामि गंगे परियोजना' के लिए दान दिया 100 करोड़

कोल्लम : अम्मा के नाम से प्रसिद्ध माता अमृतानंदमयी देवी प्रधानमंत्री की महत्वाकांक्षी परियोजना नमामि गंगे के लिए 100 करोड़ रुपए दान दिया । माता अमृतानंदमयी मठ के अनुसार 11 सितम्बर को अमृतापुर आश्रम में आयोजित एक कार्यक्रम में अमृतानंदमयी देवी ने 100 करोड़ रुपए का ड्राफ्ट केन्द्रीय वित्त मंत्री अरूण जेटली को सौंपा ।

उन्होंने बताया कि इस धनराशि का प्रयोग गंगा किनारे के गरीब गांवों में शौचालय बनाने के लिए किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और अम्मा ने 28 मार्च को पहली बार स्वच्छ गंगा परियोजना में मठ की भागीदारी को लेकर चर्चा की थी। विज्ञप्ति में बताया गया है कि बैठक के दौरान, मठ की पर्यावरणीय पहल के लिए प्रधानमंत्री ने अम्मा की सराहना की थी।

माता अमृतानंदमयी मठ ने 2010 में अमला भारतम अभियान (एबीसी) की शुरूआत की थी जिसका लक्ष्य देश के पावन सौंदर्य को पुन: स्थापित करना और लोक कल्याण था।

इस अभियान के तहत लाखों कार्यकर्ता नियमित रूप से सार्वजनिक स्थानों की सफाई करते हैं और स्कूलों में कचरे के निपटान के सही तरीकों के बारे में जागरूकता फैलाते हैं।

मठ के आय के स्रोत
माता अमृतानंदमयी के अनुयायी उन्हें प्यार से “अम्मा” बुलाते हैं। वो भारत की सबसे अमीर महिला योगी हैं। अम्मा की कुल संपत्ति 1000 करोड़ रुपए से ज्यादा बताई जाती है। उन्होंने अमृता विश्व विद्यापीठम कॉलेज, अमृता इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस और अमृता स्कूल की स्थापना की है। अमृता ट्रस्ट के स्कूल और कॉलेज में इंजीनियरिंग, बिजनेस, बायो-टेक्नोलॉजी और कम्युनिकेशन की शिक्षा दी जाती है। इसके अलावा उनका एक टीवी चैनल भी है। अम्मा के अनुयायी भी दिल खोल कर दान देते हैं

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

Loading...
loading...
शेयर करें