ब्रिटेन के उपग्रह भेज भारत ने कमाए 209 करोड़

0
302

ब्रिटेन के पांच उपग्रहों डीएमसी3-1, डीएमसी3-2, डीएमसी3-3, सीबीएनटी-1 और डी-ऑर्बिटसेल के प्रक्षेपण के लिए अंतरिक्ष विभाग की वाणिज्यिक शाखा अंतरिक्ष कॉरपोरेशन लिमिटेड और ब्रिटेन स्थित सरे सैटेलाइट टेक्‍नोलॉजी लिमिटेड (एसएसटीएल) के पूर्ण स्‍वामित्‍व वाली कंपनी डीएमसी इंटरनेशनल इमेजिंग (डीएमसीआईआई) के बीच लेन-देन संबंधी समझौता कुल मिलाकर 28 मिलियन यूरो (209.41 करोड़ रुपये) का हुआ।

चूंकि इन उपग्रहों को अंतरिक्ष कॉरपोरेशन लिमिटेड और मेसर्स डीएमसीआईआई के बीच हुये वाणिज्यिक समझौते के तहत प्रक्षेपित किया गया है, इसलिए इसके फलस्‍वरूप 28 मिलियन यूरो (209.41 करोड़ रुपये) का कुल राजस्‍व अंतरिक्ष के खाते में जुड़ा है।

वर्ष 1999 से लेकर अब तक अंतरिक्ष कॉरपोरेशन लिमिटेड और विदेशी ग्राहकों के बीच हुये वाणिज्यिक समझौते के तहत पीएसएलवी का इस्‍तेमाल करते हुए 19 देशों के 45 विदेशी उपग्रहों को सफलतापूर्वक प्रक्षेपित किया गया है। इन विदेशी उपग्रहों के प्रक्षेपण के फलस्‍वरूप अंतरिक्ष को कुल मिलाकर तकरीबन 17 मिलियन अमेरिकी डॉलर और 78.5 मिलियन यूरो का राजस्‍व हासिल हुआ है।

इन ← → पर क्लिक करें

Loading...
loading...