मोदी सरकार में कैद से आजाद हो गयी हैं जांच एजेंसियां: किरन रिजीजू

मोदी सरकार में कैद से आजाद हो गयी हैं जांच एजेंसियां : केंद्रीय गृह राज्यमंत्री किरेन रिजिजू ने शुक्रवार को कहा कि 2008 के मालेगांव विस्फोट की जांच में कोई राजनीतिक हस्तक्षेप नहीं है। विस्फोट की जांच राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) कर रही है। रिजिजू ने सीएनएन न्यूज18 से कहा, “कानून अपना स्वाभाविक काम कर रहा है। जांचकर्ताओं को पूर्व की सरकार के विपरीत अब बगर किसी दबाव के जांच करने की आजादी है।”

मोदी सरकार में कैद से आजाद हो गयी हैं जांच एजेंसियां
मोदी सरकार में कैद से आजाद हो गयी हैं जांच एजेंसियां

रिजिजू की टिप्पणी ऐसे समय में आई है, जब एनआईए ने सितंबर 2008 के मालेगांव विस्फोट मामले में मुंबई की एक विशेष अदालत में शुक्रवार को दाखिल आरोप-पत्र से साध्वी प्रज्ञा सिंह ठाकुर और चार अन्य आरोपियों के नाम हटा दिए।

रिजिजू ने कांग्रेस के उस आरोप को खारिज कर दिया, जिसमें कहा गया है कि भाजपा सरकार एनआईए जांच को प्रभावित कर रही है। रिजिजू ने कहा कि कोई राजनीतिक हस्तक्षेप नहीं है।

उन्होंने कहा, “कोई राजनीतिक हस्तक्षेप नहीं है और हम किसी भी स्तर पर ऐसा होने नहीं देंगे।”

इसके पहले कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भाजपा पर आरोप लगाया कि वह मुंबई आतंकवाद रोधी दस्ते के अधिकारी हेमंत करकरे की छवि धूमिल कर रही है। करकरे की टीम ने ही सबसे पहले साध्वी प्रज्ञा सिंह, कर्नल श्रीकांत पुरोहित और अन्य को मालेगांव विस्फोट मामले में गिरफ्तार किया था।

MUST READ: मोदी सरकार ने पकड़ा 50 हजार करोड़ का कालाधन , मोदी ने ली सांसदों की क्लास, जानिए क्या दिया नया टारगेट , अब सिर्फ एक क्लिक पर मिलेंगी 200 सरकारी सेवाएं, मोदी सरकार की बड़ी पहल

दिग्विजय ने एक टीवी चैनल से कहा, “यह कहना कि हेमंत करकरे जैसे ईमानदार अधिकारी ने, जिसने आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में अपनी कुर्बानी दे दी, साध्वी प्रज्ञा और अन्य के खिलाफ सबूत गढ़े, निंदनीय है।”

मोदी सरकार में कैद से आजाद हो गयी हैं जांच एजेंसियां

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

loading...

Loading...
शेयर करें