जयललिता ने बाढ़ पीड़ितों के लिए मांगे दस हजार करोड़

चेन्नई। तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जे. जयललिता ने राज्य में आई भीषण बाढ़ में पीड़ित हुए लोगों के पुनर्वास के लिए केंद्र सरकार से 10,250 करोड़ रुपयों की मांग की है। केंद्रीय शहरी विकास, आवास और शहरी गरीबी उपशमन मंत्री एम. वेंकैया नायडू ने जयललिता से राज्य सचिवालय में मुलाकात की।

राज्य सरकार द्वारा जारी विज्ञप्ति के अनुसार, बैठक के दौरान जयललिता ने नायडू के मंत्रालय से संबद्ध बाढ़ पीड़ितों के पुनर्वास कार्यो का उल्लेख किया। बैठक के बाद नायडू ने पत्रकारों से कहा कि केंद्र सरकार राज्य को यथासंभव मदद मुहैया कराएगी, साथ ही उन्होंने नदी तट से अतिक्रमण हटाए जाने पर जोर दिया।

जयललिता ने नायडू से कहा कि शहर में जलस्रोतों के किनारे बसे हुए 50,000 परिवार बाढ़ से प्रभावित हुए हैं और उनके सुरक्षित जगहों पर रहने की व्यवस्था की गई है। जयललिता के अनुसार, बाढ़ पीड़ितों के पुनर्वास पर 5,000 करोड़ रुपये खर्च का अनुमान है और उन्होंने नायडू से आर्थिक मदद की गुहार लगाई।

इसके अलावा जयललिता ने चेन्नई के महानगरीय इलाके में मलिन बस्तियों में रहने वालों तथा बाढ़ की सर्वाधिक मार झेल रहे लोगों के लिए 50,000 आवास बनाने के लिए 750 करोड़ रुपये के विशेष पैकेज की मांग भी की। बाढ़ की मार झेल रहे तमिलनाडु के स्थानीय नगर निकायों में बुरी तरह क्षतिग्रस्त हुई सड़कों, पेयजल, सीवेज और जलनिकासी प्रणाली के लिए जयललिता ने नगर विकास मंत्रालय से 4,500 करोड़ रुपये के विशेष पैकेज की अलग से मांग की।

राज्य में आई भीषण बाढ़ के कारण एक अक्टूबर से अब तक 347 लोगों की मौत हो चुकी है और 17.64 लाख लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राज्य में बाढ़ की स्थिति का जायजा लेने के बाद 1,000 करोड़ रुपये के राहत पैकेज की घोषणा की थी। इससे पहले प्रधानमंत्री ने राज्य के लिए अलग से 940 करोड़ रुपये देने की घोषणा कर चुके थे।

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

Loading...
loading...
शेयर करें