मोदी की मेक इन इंडिया योजना ने छीन लिया चीन का चैन बीजिंग। चीन के मीडिया ने आगाह किया कि नए निवेश गंतव्य के रूप में भारत को मिल रही तरजीह ने चीन की दुखती नस को छुआ है क्योंकि तेजी से बढ़ता भारतीय उपभोक्ता बाजार चीन की चमक को छीन सकता है। ग्लोबल टाइम्स में प्रकाशित एक आलेख के अनुसार प्रमुख प्रौद्योगिकी कंपनी एप्‍पल के मुख्य कार्यकारी टिम कुक इस समय भारत की यात्रा पर हैं ताकि वहां कंपनी के खुद के स्टोर खोलने के प्रस्ताव पर जोर दे सकें और भारत के तेजी से बढ़ते उपभोक्ता बाजार में उपस्थिति बढ़ाई जा सके।

मोदी की मेक इन इंडिया योजना ने छीन लिया चीन का चैन
मोदी की मेक इन इंडिया योजना ने छीन लिया चीन का चैन

कुक की इस बहुप्रचारित भारत यात्रा से पहले एप्‍पल की आपूर्ति करने वाली फाक्सकॉन जैसी प्रमुख कंपनियों ने भारत में अपने कारोबार के विस्तार की योजनाओं की घोषणा की है। आलेख का शीर्षक कड़ी प्रतिस्पर्धा कर रहा है भारत लेकिन चीनी फर्मों के लिए भी बड़े बाजार की पेशकश है। इसमें कहा गया है, इस कहानी ने एक बार फिर चीन में अनेक लोगों की दुखती रग को छुआ है। मोदी सरकार द्वारा 2014 में मेक इन इंडिया पहल की शुरुआत से ही विनिर्माण गतिविधियों के चीन से भारत जाने को लेकर खूब चर्चा हो रही है।

मेक इन इंडिया योजना के तहत फोक्सकॉन के चेयरमैन ने भारत में व्यवसाय करने की घोषणा की
मेक इन इंडिया योजना के तहत फोक्सकॉन के चेयरमैन ने भारत में व्यवसाय करने की घोषणा की

इसके अनुसार, अब यह लगता है कि भारत का तेजी से बढ़ता उपभोक्ता बाजार चीन की चमक भी छीन रहा है। इसमें कहा गया है कि भारत के सुधरते औद्योगिक बुनियादी ढांचे, तेजी से बढ़ते उपभोक्ता बाजार, सस्ते श्रम व विनिर्माण क्षेत्र के लिए अन्य फायदों को ध्यान में रखते हुए वैश्विक कंपनियां भारत को लगातार आकर्षक बनते गंतव्य के रूप में देख सकती हैं।

इन ← → पर क्लिक करें

Loading...
loading...