पेप्सिको की वजह से इलाके में सुखा, बंद होगा प्लांट

कोका कोला के बाद एक और मल्टीनेशनल कंपनी पेप्सिको को केरल के पलक्कड जिले में लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ सकता है। इलाके में पानी की भीषण तंगी को देखते हुए पुडुसेरी पंचायत ने पेप्सिको इंडिया के प्लांट को नोटिस भेजा है। यह प्लांट पंचायत के दायरे में है। नोटिस में कहा गया है कि पानी की स्थिति बेहतर होने तक कुछ महीनों के लिए कामकाज रोक दिया जाए। पंचायत ने कुछ दिनों पहले नोटिस दिया था और कंपनी से कोई जवाब न आने पर मंगलवार को पंचायत सदस्यों ने बैठक की।

पेप्सिको की वजह से इलाके में सुखा, बंद होगा प्लांट
पेप्सिको की वजह से इलाके में सुखा, बंद होगा प्लांट

प्लांट में ग्राउंड वॉटर के बेतहाशा इस्तेमाल के खिलाफ एक प्रस्ताव इस बैठक में पारित किया गया। पुडुसेरी पंचाचत के अध्यक्ष के उन्नीकृष्णन ने बताया, ‘प्रस्ताव सर्वसम्मति से पारित किया गया। हमने कंपनी को एक और नोटिस भेजने का निर्णय किया है, जिसमें पानी का बहुत ज्यादा इस्तेमाल रोकने को कहा जाएगा।’ हालांकि पेप्सिको इंडिया ने कहा कि उसे कोई कारण बताओ नोटिस नहीं मिला है। पेप्सिको इंडिया के प्रवक्ता ने कहा, ‘हम 600 केएलडी पानी यूज करने के हाई कोर्ट के दिशानिर्देश का पालन कर रहे हैं। पेप्सिको कानून का पालन करने वाली कंपनी है।’

यह मसला नया नहीं है। पानी के भीषण दोहन की समस्या कई साल पहले सामने आई थी। केरल स्टेट ग्राउंड वॉटर डिपार्टमेंट के एक सीनियर अधिकारी ने बताया, ‘राज्य सरकार की ओर से गठित सब्जेक्ट कमेटी ने एक स्टडी के बाद अधिकतम 2.34 लाख लीटर पानी प्रतिदिन इस्तेमाल करने की सलाह दी थी। तब कंपनी करीब 6 लाख लीटर पानी का इस्तेमाल कर रही थी। कंपनी ने कमेटी के नतीजों को चुनौती दी और हाई कोर्ट ने कंपनी के पक्ष में फैसला दिया था।’

यह भी पढ़ें : कोका कोला के भीतर छिपे हैं बहुत से राज़, जिन्हें हमने है खोला

2011 में बनाई गई एक अन्य कमेटी ने भी 2.34 लाख लीटर प्रतिदिन की लिमिट का सुझाव दिया था। यह रिपोर्ट हाई कोर्ट के सामने लंबित है। सरकारी अधिकारी ने कहा, ‘पेप्सिको यूनिट अपने सात बोरवेल्स के जरिए पानी खींच रही है। हम हर महीने रीडिंग लेते हैं। कंपनी कोर्ट की रूलिंग के मुताबिक लगभग 6 लाख लीटर पानी लेने में सक्षम है।’ दूसरे नोटिस पर भी कंपनी का जवाब न आने की सूरत में पंचायत कंपनी के गेट पर प्रदर्शन करने की योजना बना रही है।

पलक्कड में राज्य के दूसरे जिलों के मुकाबले पानी कम बरसता है और यहां का तापमान भी दूसरे जिलों के मुकाबले ज्यादा रहता है। गर्मी के इस सीजन में यहां तापमान 41 डिग्री सेल्सियस तक जा चुका है, जो इस सीजन में केरल में अब तक सर्वाधिक तापमान है। उन्नीकृष्णन के मुताबिक, पंचायत के कम से कम 10 वॉर्ड सूखा प्रभावित हैं और लोगों को पीने का पानी टैंकर से सप्लाई किया जा रहा है। एक दशक पहले पलक्कड के प्लाचीमाडा में कोका कोला के बॉटलिंग प्लांट को लोगों के विरोध के कारण बंद करना पड़ा था।

Loading...
इन ← → पर क्लिक करें

loading...

Loading...
शेयर करें